हमारे देश में लोकतंत्र की मजबूती के लिए पंचवर्षीय योजना का विशेष प्रावधान है। जिसमें के हर साल हर 5 साल बाद जनता द्वारा जनता के लिए जनता में से ही अपने नेता को चुना जाता है ।जिसमें पक्ष तथा विपक्ष देश सुधार के लिए अच्छे से अच्छे योजना लागू करने की कोशिश करता है। जैसा कि हम देख रहे हैं वर्ष 2014 में मोदी सरकार ने बहुत सारे वादे किए हिंदुत्व के नाम पर वोट लिए तथा अयोध्या में अयोध्या में राम मंदिर बनाने का वादा किया। गौ हत्या का विरोध करने का भरोसा दिलाया ।खुद को हिंदू पार्टी घोषित करने की कोशिश की। देश सुधार तथा विकास के लिए बहुत सारे जुमले किए ।जबकि नतीजा यह हुआ 2019 के चुनाव नजदीक आ रहे हैं और भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी केवल तथा केवल पूर्व सरकारों की कमियां गिनाने में व्यस्त हैं ।श्रीमान नरेंद्र मोदी जी यह भूल चुके हैं उन्होंने जो चुनाव के वक्त वादे किए थे उनको पूरा करने के लिए कोई कदम उठाने की जरूरत है या नहीं। नरेंद्र मोदी जी ने वादा किया था कि वह युवाओं को रोजगार के अवसर प्रदान करवाएंगे। आर्थिक मंदी के दौर से गुजर रहे देश को विकास की ओर ले जाएंगे। उन्होंने रुपए को मजबूत करने का वादा किया बल्कि भारत की करेंसी और गिरती चली गई है ।पेट्रोल डीजल के दाम लगातार बढ़ रहे हैं। जिसके लिए मोदी जी ने कोई ऐसा कदम नहीं उठाया है कि गरीब पर पड़ रही मार को कम किया जा सके। उन्होंने काला धन वापस लाने का वादा किया। जिसका आज के दौर में कोई जिक्र तक नहीं है। 2014 के चुनाव के वक्त मोदी जी ने वादा किया था कि वे हर भारतीय नागरिक के खाते में 15lakh जमा करेंगें । जोके विदेशियों से काला धन ला कर किया जाएगा । पूर्व सरकारों के कार्यकाल के दौरान मोदी जी ने जीएसटी का विरोध किया था । आज उन्होंने जीएसटी को लागू कर दिया है। चुनाव पूर्व मोदी जी ने आधार कार्ड को भारत के नागरिकों के लिए खतरनाक बताया । जबकि आज उनकी सरकार में उन्होंने आधार कार्ड को भी लागू करवा दिया है। जम्मू कश्मीर में हो रहे आतंक के खिलाफ मोदी जी ने कई सारे भाषण दिए थे । यहां तक के जवानों के सिर के एवज में पाकिस्तानियों के 10 सिर लाने का वादा किया था जबकि आज के दौर में भी आतंकवादी गतिविधियां जारी हैं। जवानों के सर काटे जा रहे हैं। बलके मोदी जी पाकिस्तान जाकर मुबारकबाद देते नजर आ रहे हैं। जो भारत के प्रधानमंत्री को यह सब शोभा नहीं देता। हमारे प्रधानमंत्री जी ने चुनाव से पूर्व 56 इंच सीने का जिक्र किया था। जबकि आज ऐसा कुछ 56 इंच के सीने का कोई असर नहीं दिखाई दे रहा । चुनाव के पूर्व मोदी जी ने वादा किया था के किसानों की फसल का किसानों को सही मूल्य दिया जाएगा। यहां तक की स्वामीनाथन रिपोर्ट को लागू किया जाएगा।  सरकार के कार्यकाल के दौरान आज भी किसान आत्महत्या कर रहे हैं। मोदी जी ने नोटबंदी करके लोगों को बताया कि वह भारत में भ्रष्टाचार को खत्म करेंगे। काले धन पर रोकथाम लगाएंगे तथा भारत की अर्थव्यवस्था को ऊपर उठाएंगे । जब कि आज देखा जाए तो ऐसा कोई सुधार नहीं हुआ है।

यह सब जुमलेबाजी तथा वादाखिलाफी को देखते हुए कई सारे सामाजिक कार्यकर्ता सामने आए। जिसमें देश की महान तथा सबसे बड़ी पार्टी कांग्रेस ने सरकार को वादाखिलाफी  व भ्रष्टाचारर से लिप्त नीतियों के खिलाफ  घेरने की कोशिश की है। जिसमें के हरियाणा के कांग्रेस अध्यक्ष डॉक्टर अशोक तंवर उनके सहयोगी बूटा सिंह थिंद, सुखविंदर सिंह सामा , भाई रमेश भादू तथा अन्य कार्यकर्ता तथा नेताओं ने साइकिल यात्रा का आगाज करते हुए , लोगों को जोड़ने की कोशिश करते हुए उन्हें भरोसा दिलाया के कॉन्ग्रेस ही देश के लिए फायदेमंद समाज सुधारक, गरीबों , मुस्लिमों,  महिलाओं तथा अन्य सभी वर्गों की हिमायती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.