हरियाणा में स्वामीनाथन रिपोर्ट को लागू करने ऋण माफी तथा फसलों के न्यूनतम मूल्य को लागू करने संबंधी आंदोलन किया जा रहा है | हरियाणा कृषि प्रधान राज्य है |यहां की अर्थव्यवस्था कृषि पर आधारित है |यहां तक कि भारत देश में किसानों का विकास ही देश का विकास है किसानों द्वारा जगह-जगह पर प्रदर्शन किए जा रहे हैं| सरकार से अपनी मांगे मनवाने के लिए किसान संगठन एकजुट होकर अपने हक की लड़ाई लड़ रहे हैं|

हरियाणा में किसानों की मांग है – स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट को लागू करके ऋण माफ़ी तथा फसलों के  समर्थन मूल्य को बढ़ाया जाए| उम्मीद की जा रही है कि सरकार द्वारा किसानों के हित में फैसला लिया जाएगा| मध्य प्रदेश में बड़े पैमाने पर आंदोलन करने के बाद हरियाणा तथा पंजाब के किसानों ने आंदोलन का रुख किया है |जिसके बाद दिल्ली से हरियाणा तथा पंजाब को जोड़ने वाले एनएच-1 को जाम करने का फैसला लिया गया | किसानों द्वारा फैसला लिया गया कि यह आंदोलन शांतिपूर्ण ढंग से किया जाएगा | किसान संगठनों ने अपने आंदोलन को सफल बनाने के लिए हर संभव कोशिश जारी कर रखी है | जिसके लिए वे शांतिपूर्ण ढंग से किसी भी हद तक जाने को तैयार हैं |जैसा कि हम जानते हैं  कि काफी समय से किसानों द्वारा आत्महत्या जैसे कदम उठाए जा रहे थे , जो हमारे भारत देश के लोकतांत्रिक ढांचे को शोभा नहीं दे रहे किसी भी वर्ग को समानता का अधिकार देना लोकतांत्रिक संविधान की जिम्मेदारी है| किसानों के समर्थन में कांग्रेस पार्टी भी खड़ी हो गई है |आंदोलनकारियों के विरोध प्रदर्शन के मद्देनजर प्रदेश में कानून व्यवस्था कायम रखने के लिए पुलिस बलों का इंतजाम चल रहा है |जैसा कि हम जानते हैं कि राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी इस भारत देश के नागरिकों के अधिकारों की रक्षा के लिए ही बनाई गई है| हरियाणा प्रदेश अध्यक्ष डॉ अशोक तंवर भाई, भाई रमेश भादू, भाई सुखविंदर सिंह सामा, भाई भजन सिंह सामा तथा टीम के अन्य कार्यकर्ताओं ने शपथ लेते हुए घोषणा की है कि वे हर पल किसानों, गरीबों, महिलाओं औऱ बच्चों के उत्थान तथा विकास के लिए हर समय अग्रसर रहेंगे| अधिक जानकारी साझा करने के लिए विजिट करें swarnimsavera.com

Jai hind jai Bharat

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.